वर्ल्ड कप की मेजबानी करने वाला स्टेडियम, खेत की तरह दिख रहा है, 2 फीट लंबी घास से भरा मैदान

Moin-ul-Haq Stadium

खेत जैसा नजर आता है वो मैदान जिस पर कभी वर्ल्ड कप का मैच हुआ था। पटना के मोइनुल हक स्टेडियम(Moin-ul-Haq Stadium), जो विश्व कप के मैचों सहित चार अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैचों का गवाह बना है, कोरोना काल के दौरान अपनी बदहाली की दास्ताँ बयां कर रहा है। लॉक डाउन की वजह से स्टेडियम पिछले छह महीने से बंद है। 1996 में जिंबाब्वे और केन्या के बीच हुए विश्व कप क्रिकेट मैच के दौरान जिस आउटफील्ड की तारीफ सुनील गावस्कर, माइकल होल्डिंग और नवाब पटौदी जैसे सितारों ने की थी, वहां दो फीट ऊंची घास उग आई है। ये मैदान बिल्कुल एक खेत की तरह दिखता है। दर्शकों के लिए बनाई गई गैलरी भी जर्जर हालत में है। दोनों पवेलियन की हालत भी बदतर हो रखी है। वहीं इलेक्ट्रॉनिक और मैनुअल स्कोर बोर्ड का सिर्फ ढांचा ही बचा हुआ है।

मोइनुल हक स्टेडियम के प्रबंधक अरुण कुमार सिन्हा ने कहा, “मोइनुल हक स्टेडियम की ऐसी स्थिति कोरोना वायरस महामारी के कारण हुए लॉकडाउन और अत्यधिक बारिश के कारण हुई है। दोनों समस्याओं से छुटकारा पाने के बाद, स्टेडियम की मरम्मत का कार्य शुरू किया जायेगा। “


WeUttarakhand की न्यूज़ पाएं अब Telegram पर - यहां CLICK कर Subscribe करें (आप हमारे साथ फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर जुड़ सकते हैं)