Home National बीमार मां के लिए इस बच्चे ने की चोरी, जज ने सजा...

बीमार मां के लिए इस बच्चे ने की चोरी, जज ने सजा की जगह दिया ऐसा फैसला, सब जगह हो रही चर्चा

Corona Day’s : कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण देशव्यापी तालाबंदी है। सभी उद्योग और व्यवसाय बंद हैं, जिसका देश के गरीब, श्रमिक वर्ग पर सबसे अधिक प्रभाव पड़ा है। लोग दो वक्त की रोटी नहीं जुटा पा रहे हैं।

लेकिन संकट के इस समय में भी, समाज का एक ऐसा बड़ा वर्ग है जो इन गरीबों की मदद करने और उन्हें भोजन प्रदान करने के लिए आगे आ रहा है। पेट की भूख आलम कुछ ऐसा है कि लोग चोरी करने तक के लिए मजबूर हैं। एक ऐसी ही घटना बिहार में हुई जहां एक नाबालिग लड़के ने अपनी भूखी माँ के लिए डकैती डाली, लेकिन जज को लड़के की हालत पर दया आ गई।

Corona Day’s : मजबूर नाबालिक लड़के को सुधार का मौका मिलना चाहिए

दरअसल रविवार को इस नाबालिग लड़के को चोरी के आरोप में स्थानीय अदालत में पेश किया गया था। लेकिन जज ने आरोपी लड़के को सजा देने के बजाय उसे राशन, कपड़ा और जरूरी सामान मुहैया कराया। मामले की सुनवाई के बाद, न्यायाधीश ने लड़के के पक्ष में फैसला दिया और कहा कि उसे सुधरने का मौका दिया गया है। इस नाबालिग लड़के की पहचान नरेंद्र राव के रूप में हुई है।

जज साहब ने मेरी मजबूरी को समझा

नरेंद्र ने कहा कि पुलिस ने मुझे सामान चोरी करते हुए पकड़ा था। जिसके बाद स्थानीय लोग वहां जमा हो गए और मुझे मारने लगे। मुझे लोगों ने बहुत पीटा, जिसके बाद पुलिस ने मुझे जेल में बंद कर दिया। लेकिन बाद में जब मुझे अदालत में पेश किया गया, तो न्यायाधीश ने मेरी स्थिति को समझा और महसूस किया कि मैंने आखिर चोरी क्यों की।

Corona Day’s : मां बीमार थी और खाने के लिए कुछ नहीं था

नरेंद्र ने बताया कि मेरी मां बीमार थी और मेरे पास खाने के लिए कुछ नहीं था। मैं उन्हें कुछ खिलाना चाहता था। वहीं, स्थानीय प्रशासन के अधिकारी ने कहा कि परिवार के पास राशन कार्ड है और उन्हें सरकार द्वारा पेंशन योजना का लाभ दिया जा रहा है। हालांकि, उनके पास रहने के लिए घर नहीं है क्योंकि उनका नाम आधिकारिक आंकड़ों में दर्ज नहीं है। इस कारण से, उन्हें आवास योजना का लाभ नहीं मिला। हमने उन्हें कुछ आवश्यक सामग्री प्रदान की है।

ग्रामीणों ने फैसले का किया स्वागत

जज के फैसले के बाद, ग्रामीणों ने इस फैसले का स्वागत किया है और उन्होंने उम्मीद जताई है कि इस फैसले से लड़के में सुधार होगा और वह सही रास्ते पर जाएगा। स्थानीय निवासी संजय चौधरी ने कहा कि जज के फैसले में बच्चे का पक्ष लिया गया है, यह एक जबरदस्त पहल है। हमें उम्मीद है कि इस फैसले के बाद, लड़का सही रास्ते पर चलेगा ।


WeUttarakhand की न्यूज़ पाएं अब Telegram पर - यहां CLICK कर Subscribe करें (आप हमारे साथ फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर जुड़ सकते हैं)

Latest Updates

वर्ल्ड कप की मेजबानी करने वाला स्टेडियम, खेत की तरह दिख रहा है, 2 फीट लंबी घास से भरा मैदान

खेत जैसा नजर आता है वो मैदान जिस पर कभी वर्ल्ड कप का मैच हुआ था। पटना के मोइनुल हक स्टेडियम(Moin-ul-Haq Stadium),...

Mirzapur Season 2: जानिए आखिर ट्विटर पर क्यों ट्रेंड हो रहा है बॉयकॉट मिर्ज़ापुर 2, गुड्डू भैया से जुड़ा है मामला.. पढ़ें

लंबे इंतजार के बाद अमेज़न प्राइम वीडियो ने सोमवार को मिर्जापुर के दूसरे सीज़न की रिलीज़ डेट की घोषणा की। लेकिन मंगलवार...

भूमि पूजन: अयोध्या को सील करने की तैयारी, 4 अगस्त को नहीं मिलेगा किसी को भी प्रवेश

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 5 अगस्त को अयोध्या में श्री राम मंदिर की भूमि पूजन के लिए पहुंचेंगे इस को ध्यान में रखते...

1983 वर्ल्ड कप चैंपियन भारतीय क्रिकेट टीम को कितने पैसे मिलते थे जानिए

दिग्गज पाकिस्तानी क्रिकेटर रमीज राजा ने 1983 वर्ल्ड कप जीतने वाली भारतीय टीम की पे-स्लिप शेयर की है। कपिल देव की कप्तानी...

हाईस्कूल में फेल हुई छात्रा ने पिया जहर, वहीं पिथौरागढ़ में छात्रा ने की फांसी लगाकर आत्महत्या

उत्तराखंड के नैनीताल में हाईस्कूल में फेल होने के बाद गवर्नमेंट इंटर कॉलेज बाजुनियाहल्लु की एक छात्रा ने आत्मघाती कदम उठाया। दरअसल,...