Home Uttarakhand अब उत्तराखंड के पुलिसकर्मियों को मिलेगा साप्ताहिक अवकाश, मिलेगी मानसिक राहत

अब उत्तराखंड के पुलिसकर्मियों को मिलेगा साप्ताहिक अवकाश, मिलेगी मानसिक राहत

Uttarakhand policemen: उत्तराखंड के पुलिस महानिदेशक (DGP) अशोक कुमार ने एक और बड़ा निर्णय लिया है। उन्होंने एक मई से साप्ताहिक अवकाश को बाकी चार जिलों में लागू करने की मंजूरी दे दी है। इससे पहले कांस्टेबल और हेड कांस्टेबल के लिए यह सुविधा फिलहाल ट्रायल के रूप में नौ पहाड़ी जनपदों में लागू थी। पुलिसकर्मियों के लिए यह तोहफा से कम नहीं है।

मंगलवार को पुलिस मुख्यालय में आयोजित अधिकारियों के साथ कांफ्रेंस में यह निर्णय लिया गया। DGP अशोक कुमार ने बताया कि लंबे समय से पुलिस अधिकारियों के साथ कोई कांफ्रेंस नहीं हुई थी। इस बार प्रदेश के सभी अधिकारी इसमें शामिल हुए थे। उन सभी से कहा गया है कि वे अपने-अपने क्षेत्रों में कार्य की गुणवत्ता में बढ़ोतरी करें। इस दौरान कई तरह के मुद्दों पर चर्चा हुई, जिनमें से कई में सहमति दी गई है। 

DGP ने बताया कि लंबे समय से पुलिसकर्मियों को अवकाश दिए जाने की बात कही जा रही थी, जिससे उन्हें मानसिक राहत मिल सके। पिछले दिनों प्रदेश के नौ पहाड़ी जनपदों में पुलिस चौकियों और थानों में तैनात कांस्टेबल और हेड कांस्टेबलों के लिए साप्ताहिक अवकाश का ट्रायल शुरू किया गया था, जो कि उम्मीदों पर खरा उतरा है।

हालांकि, देहरादून, हरिद्वार, ऊधमसिंह नगर और नैनीताल में भी कांस्टेबल और हेड कांस्टेबलों के लिए यह सुविधा एक मई से लागू की जाएगी। यह अवकाश उनके ड्यूटी प्रभारी ही रोटेशन के आधार पर तय करेंगे। इन सब के अलावा DGP ने कॉन्फ्रेंस में कई अन्य निर्णय भी लिये।

Uttarakhand policemen: यह निर्णय भी लिए गए

‌पुलिस कर्मियों के मनोबल एवं कार्यक्षमता को बढ़ाने के लिए 01 मई, 2021 से प्रदेश के समस्त जनपदों में थाना/चौकी/पुलिस लाइन में नियुक्त मुख्य आरक्षी एवं आरक्षियों को साप्ताहिक विश्राम की सुविधा उपलब्ध कराये जाने का निर्णय लिया गया है।

‌ड्रग्स माहियाओं एवं साइबर क्राइम में लिप्त अपराधियों के विरूद्ध गैंगस्टर के अन्तर्गत कार्यवाही एवं उनकी अवैध रूप से अर्जित सम्पत्ति की कुर्की की जाएगी।‌पुलिस लाईन एवं पीएसी वाहिनियों की बैरकों के नाम प्रदेश की नदियों एवं पर्वतों के नाम पर रखें जाएंगे।

‌सोशल मीडिया पर राष्ट्र विरोधी एवं असामाजिक पोस्ट करने वाले व्यक्तियों का रिकार्ड रखा जाएगा और भविष्य में उनके द्वारा पासपोर्ट एवं आम्र्स लाइसेंस के अनुरोध करने पर सत्यापन कार्यवाही में इसका उल्लेख भी किया जाएगा। ‌जनपद प्रभारियों द्वारा चौकी प्रभारियों के कार्यों की समीक्षा की जाएगी।

‌दिनांक 06 फरवरी से आगामी 03 दिवसीय कुमाऊं भ्रमण में जनता की समस्याओं व सुझावों के लिए जनसंवाद कार्यक्रम का आयोजन किया जायेगा।


WeUttarakhand की न्यूज़ पाएं अब Telegram पर - यहां CLICK कर Subscribe करें (आप हमारे साथ फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर जुड़ सकते हैं)

Latest Updates