लोग बिना पास के एक जिले से दूसरे जिले में जा पाएंगे, नहीं होंगे क्वॉरेंटाइन, कैबिनेट ने दी बड़ी राहत

Uttarakhand Goverment allows inter-district movement without pass

अब उत्तराखंड का कोई भी नागरिक एक जिले से दूसरे जिले में जा सकेगा। हालांकि, अंतरजनपदीय आवाजाही के लिए पास की प्रणाली को समाप्त नहीं किया गया है। सरकार ने प्रावधान किया है कि किसी दूसरे जिले में जाने से पहले केवल ऑनलाइन पास के लिए आवेदन करना होगा।

मंजूरी मिलने की प्रतीक्षा किए बिना, उन्हें केवल आवेदन के आधार पर दूसरे जिले में जाया जा सकता है। हालांकि, यदि कोई जिला रेड जोन में शामिल होता है, तो वहां आने और जाने के लिए पास पर अनुमति प्राप्त करने की व्यवस्था होगी।

उत्तराखंड के सभी जिले ऑरेंज श्रेणी में हैं। ऐसे में सरकार ने लोगों को एक जिले से दूसरे जिले में जाने के लिए पास के लिए आवेदन को मंजूरी मिलने की व्यवस्था खत्म कर दी है। सरकार के प्रवक्ता मदन कौशिक ने कहा कि यह मामला कैबिनेट की बैठक में सामने आया।

सरकार ने फैसला किया कि अगर कोई व्यक्ति एक जिले से दूसरे जिले में जाना चाहता है, तो वह जा सकता है। प्रशासन को सूचित करने के लिए, उसे ऑनलाइन पास आवेदन के साथ वेबसाइट पर जाकर आवेदन करना होगा। आवेदन पर मंजूरी मिले, इसकी कोई आवश्यकता नहीं होगी।

नहीं किया जाएगा क्वॉरेंटाइन

  उन्होंने यह स्पष्ट किया कि यह व्यवस्था केवल ऑरेंज और ग्रीन जोन के जिलों के लिए है। यदि कोई जिला रेड जोन में आता है, तो नियमों को पूरी तरह से बदल जाएंगे । जिला प्रशासन रेड जोन में प्रवेश करने या बाहर निकलने के लिए पास को मंजूरी देगा। कोई भी बिना मंजूरी के रेड ज़ोन से ना बाहर आएगा और ना कोई जाएगा।

  रेड जोन जिलों से आने वाले लोगों के लिए ही क्वॉरेंटाइन की व्यवस्था उपलब्ध होगी। यदि कोई व्यक्ति रेड ज़ोन से आता है, तो वे अनिवार्य रूप से क्वॉरेंटाइन होंगे ।

  कौशिक ने कहा कि यह फैसला सरकार के स्तर से लिया गया है, अब जिला मजिस्ट्रेट इस संबंध में अपने जिलों में आदेश जारी करेंगे। इसके बाद कोई भी व्यक्ति इसका लाभ ले सकेगा।


WeUttarakhand की न्यूज़ पाएं अब Telegram पर - यहां CLICK कर Subscribe करें (आप हमारे साथ फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर जुड़ सकते हैं)