Home Uttarakhand मां-बाप की जिंदगी भर की कमाई 16 लाख रूपए, 17 साल के...

मां-बाप की जिंदगी भर की कमाई 16 लाख रूपए, 17 साल के लड़के ने PUBG गेम में उड़ाई

वर्ष 2018 में शुरू किया गया सर्वाइवल और वॉर गेम PUBG, शुरुआती दिनों से लगातार विवादों में रहा है। हालाँकि इस खेल की लोकप्रियता भी बहुत अधिक है और पिछले कुछ महीनों में कोरोना वैश्विक महामारी के कारण लॉकडाउन ने इसकी लोकप्रियता में वृद्धि की है । PubG ने लॉकडाउन में लोगों का टाइमपास कराया, यही वजह है कि इन दिनों इसकी लोकप्रियता सातवें आसमान पर है।

दरअसल, गुरूवार को आए एक रिपोर्ट में ये दावा किया गया है कि पंजाब के एक 17 वर्षीय किशोर ने पबजी गेम के अंदर 16 लाख रूपए की खरीददारी की है। जी हां, बिल्कुल सही सुना आपने। मिली जानकारी के मुताबिक, किशोर ने पबजी गेम में अपने माता-पिता के एकाउंट से 16 लाख रूपए खर्च कर दिये। बताया जा रहा है कि ये परिवार पंजाब के खागर का रहने वाला है। किशोर के पिता ने ये पैसे चिकित्सकीय खर्च के लिए जमा किए थे और ये उनकी पूरी जिंदगी भर की जमा पूंजी थी। पिता के जिंदगी भर की कमाई को बेटे ने एक झटके में साफ कर दिया।

प्रतिष्ठित वेबसाइट Tribune India की एक रिपोर्ट में ये दावा किया गया कि माता पिता के तीन बैंक एकाउंट तक किशोर की पहुंची थी। इन बैंक एकाउंट के पैसों को किशोर अपने पबजी गमे को अपग्रेड करने के लिए इस्तेमाल करता था। रिपोर्ट के मुताबिक 17 वर्षीय किशोर ने न सिर्फ अपने लिए बल्कि अपने दोस्तों के लिए भी खरीदारी की है। इस बात की भनक माता-पिता को तब लगी, जब वे बैंक में एकाउंट स्टेटमेंट लेने पहुंचे थे। 16 लाख रूपए एकाउंट से गायब देख माता-पिता हक्के बक्के रह गए।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, नाबालिग के पिता एक सरकारी कर्मचारी हैं और वे काफी बीमार रहते हैं। पिता ने नाम के खुलासे न करने के शर्त पर ट्रिब्यून इंडिया को ये जानकारी दी कि ‘बेटा उसकी मां के साथ रहता था जबकि उनकी नौकरी की पोस्टिंग कहीं दूसरे जगह थी।’ पिता ने यह भी बताया कि ‘उसने पैसों के खर्च के लिए अपनी मां के मोबाइल फोन का इस्तेमाल किया है, इतना ही नहीं नाबालिग ने बैंक से आने वाले पैसों के डेबिट राशि के संदेशों को मिटा दिया।’

नाबालिग के माता-पिता को लगता था कि उनका बेटा ऑनलाइन पढ़ाई के लिए स्मार्टफोन का उपयोग करता था। दूसरी तरफ बेटा अपने ही घर की लंका लगाने में लगा हुआ था। इस घटना के बाद युवक को एक रिपेयरिंग की दुकान में काम पर लगा दिया गया है ताकि वो पबजी गेम पर अधिक समय न बिता पाए और उसकी बुरी लत छूट सके। इस मामले में पिता का कहना है कि अब मैं अपने बेटे को घर में खाली बैठने बिल्कुल भी नहीं दे सकता और ना ही ऑनलाइन पढ़ाई के लिए स्मार्टफोन दे सकता हूं।


WeUttarakhand की न्यूज़ पाएं अब Telegram पर - यहां CLICK कर Subscribe करें (आप हमारे साथ फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर जुड़ सकते हैं)

Latest Updates

भूमि पूजन: अयोध्या को सील करने की तैयारी, 4 अगस्त को नहीं मिलेगा किसी को भी प्रवेश

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 5 अगस्त को अयोध्या में श्री राम मंदिर की भूमि पूजन के लिए पहुंचेंगे इस को ध्यान में रखते...

1983 वर्ल्ड कप चैंपियन भारतीय क्रिकेट टीम को कितने पैसे मिलते थे जानिए

दिग्गज पाकिस्तानी क्रिकेटर रमीज राजा ने 1983 वर्ल्ड कप जीतने वाली भारतीय टीम की पे-स्लिप शेयर की है। कपिल देव की कप्तानी...

हाईस्कूल में फेल हुई छात्रा ने पिया जहर, वहीं पिथौरागढ़ में छात्रा ने की फांसी लगाकर आत्महत्या

उत्तराखंड के नैनीताल में हाईस्कूल में फेल होने के बाद गवर्नमेंट इंटर कॉलेज बाजुनियाहल्लु की एक छात्रा ने आत्मघाती कदम उठाया। दरअसल,...

रक्षाबंधन पर प्रदेश के चारों मैदानी जिले शनिवार-रविवार को क्या रहेंगे अनलॉक? मुख्यमंत्री ने किया निर्देश जारी

कोरोना के लगातार बढ़ते मामलों को देखते हुए पिछले 2 सप्ताह में शनिवार और रविवार को प्रदेश के चार मैदानी जिलों में...

उत्तराखंड बोर्ड रिजल्ट घोषित, 10वीं में 76% और 12वीं में 80% विद्यार्थी पास, यहां देखें रिजल्ट..

कोरोना संकट के बीच उत्तराखंड बोर्ड ने 10वीं और 12वीं का रिजल्ट घोषित कर दिया है। लेकिन इस बार रिजल्ट बोर्ड की...