Home Uttarakhand Kedarnath Dham : 'केदारनाथ धाम के कपाट' खुलने से पहले होती है...

Kedarnath Dham : ‘केदारनाथ धाम के कपाट’ खुलने से पहले होती है इनकी पूजा, आखिर कौन है ‘भुकुंट बाबा’ जानिए..

Kedarnath Dham :आज प्रातः 6 बजकर 10 मिनट पर केदारनाथ धाम के कपाट पूरे विधि विधान के साथ खोल दिए गए हैं। कपाट खुलने के समय धाम में पुजारी समेत 16 लोग उपस्थित थे। कपाट खोलने के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का भी ध्यान रखा गया है। हालांकि, इस बार श्रद्धालुओं के जलसे के बिना ही बाबा केदार के कपाट खोले दिए गए हैं।

Kedarnath Dham: केदारनाथ से पहले होती है इनकी पूजा

हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार जहां जहां शिव भगवान के मंदिर हैं, वहां पर काल भैरव जी के मंदिर भी स्थित होते हैं। माना जाता है कि जब तक भैरव के दर्शन ना कर लिया जाए, तब तक भगवान शिव के दर्शन भी अधूरे माने जाते हैं।

फिर चाहे काशी के बाबा विश्‍वनाथ हों या उज्‍जैन के बाबा महाकाल। दोनों ही स्‍थानों पर काल भैरव के मंदिर स्थित हैं और भक्‍त भगवान महादेव के दर्शन के बाद इन दोनों स्थानों पर आकर सर झुकाते हैं तब उनकी तीर्थ यात्रा पूरी मानी जाती है । वहीं केदारनाथ धाम में भी भगवान भैरव का एक ऐसा ही मंदिर है जहां केदारनाथ धाम के कपाट खुलने से पहले भैरव के इस मंदिर में पूजा पाठ की जाती है ।

केदारनाथ कपाट खुलने से पहले होती है इनकी पूजा, इस क्षेत्र का ‘ क्षेत्रपाल’ ( उस भूमि के देवता) माना जाता है। बाबा केदार की पूजा से पहले केदारनाथ भुकुंट बाबा की पूजा किए जाने का विधान है और उसके बाद विधिविधान से केदानाथ मंदिर के कपाट खोले जाते हैं। ‘भुकुंट बाबा’ को केदारनाथ का पहला रावल माना जाता है।

बिना छत के है भैरव भुकुंट बाबा का मंदिर

केदारनाथ धाम से आधा किलोमीटर दूर दक्षिण दिशा में स्थित है भैरव का ये मंदिर। यहां बाबा भैरव की मूर्तियां हैं जो बिना छत के ही स्थापित की गई है। धाम के पुजारियों के अनुसार हर साल कपाट खोले जाने से पहले मंगलवार और शनिवार के दिन बाबा भैरव की पूजा की जाती है। यहां शीतकाल में केदारनाथ मंदिर की सुरक्षा भुकुंट भैरव के भरोसे ही रहती है।

केदारनाथ की डोली दूसरी बार गाड़ी से पहुंची

बाबा केदारनाथ की डोली को उखीमठ से गौरीकुंड तक गाड़ी से लाया गया। यह दूसरा मौका था जब डोली को आधे से ज्यादा रास्ते गाड़ी में लाया गया। इससे पहले देश में इमरजेंसी के वक्त ऐसा किया गया था।

चारधाम यात्रा तय नहीं


कोरोना की वजह से देशभर में जारी लॉकडाउन का असर चारधाम यात्रा पर भी देखने को मिलेगा। यात्रा होगी या नहीं, इस पर फैसला अब तक नहीं हो सका है। वहीं कपाट के खुलने को लेकर भी विवाद था और सरकार ने कपाट खुलने की तिथि को आगे बढ़ाने को भी कहा था। लेकिन रावल और हकहकूकधारियों की एक बैठक में पहले से तय तारीख पर ही पट खोलने का फैसला लिया गया। वहीं, बद्रीनाथ के कपाट पहले जहां 30 अप्रैल को खुलने थे, जिसे सरकार द्वारा अब बदलकर 15 मई कर दिया गया है।


WeUttarakhand की न्यूज़ पाएं अब Telegram पर - यहां CLICK कर Subscribe करें (आप हमारे साथ फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर जुड़ सकते हैं)

Latest Updates

वर्ल्ड कप की मेजबानी करने वाला स्टेडियम, खेत की तरह दिख रहा है, 2 फीट लंबी घास से भरा मैदान

खेत जैसा नजर आता है वो मैदान जिस पर कभी वर्ल्ड कप का मैच हुआ था। पटना के मोइनुल हक स्टेडियम(Moin-ul-Haq Stadium),...

Mirzapur Season 2: जानिए आखिर ट्विटर पर क्यों ट्रेंड हो रहा है बॉयकॉट मिर्ज़ापुर 2, गुड्डू भैया से जुड़ा है मामला.. पढ़ें

लंबे इंतजार के बाद अमेज़न प्राइम वीडियो ने सोमवार को मिर्जापुर के दूसरे सीज़न की रिलीज़ डेट की घोषणा की। लेकिन मंगलवार...

भूमि पूजन: अयोध्या को सील करने की तैयारी, 4 अगस्त को नहीं मिलेगा किसी को भी प्रवेश

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 5 अगस्त को अयोध्या में श्री राम मंदिर की भूमि पूजन के लिए पहुंचेंगे इस को ध्यान में रखते...

1983 वर्ल्ड कप चैंपियन भारतीय क्रिकेट टीम को कितने पैसे मिलते थे जानिए

दिग्गज पाकिस्तानी क्रिकेटर रमीज राजा ने 1983 वर्ल्ड कप जीतने वाली भारतीय टीम की पे-स्लिप शेयर की है। कपिल देव की कप्तानी...

हाईस्कूल में फेल हुई छात्रा ने पिया जहर, वहीं पिथौरागढ़ में छात्रा ने की फांसी लगाकर आत्महत्या

उत्तराखंड के नैनीताल में हाईस्कूल में फेल होने के बाद गवर्नमेंट इंटर कॉलेज बाजुनियाहल्लु की एक छात्रा ने आत्मघाती कदम उठाया। दरअसल,...