Home National 'लॉकडाउन के दौरान 30 सालों में पहली बार इतनी साफ नजर आयी...

‘लॉकडाउन के दौरान 30 सालों में पहली बार इतनी साफ नजर आयी यमुना..’ सामने आयी चौकाने वाली तस्वीरें

Yamuna: लॉकडाउन के बीते दिनों में पूरी दुनियाभर से हमें प्रकृति के कई नए रूप देखने को मिले हैं, या फिर यूं कहें प्रकृति का असली स्वरूप देखने को मिला है। देशभर में वाहनों का चलना ना के बराबर हो गया है और फैक्टरियां भी बंद हो गयी है, ऐसे में पानी से लेकर हवा तक के प्रदूषण में भारी कमी नजर आयी है। ये कमी सिर्फ तस्वीरों में ही नहीं बल्कि प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड के आंकड़ो में भी नजर आयी है। DPCC (दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण कमेटी) की रिपोर्ट के अनुसार, यमुना के पानी में अलग-अलग स्थानों पर प्रदूषण में लगभग 40 फीसदी तक की कमी देखी गई है। 

Yamuna water Pollution

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, देश की राजधानी दिल्ली के वज़ीराबाद गांव में लोग पिछले कुछ दिनों से यमुना के पानी का पीने के लिए इस्तेमाल कर रहे हैं। लोगों का मानना है कि अब नदी का पानी एकदम साफ हो चुका है। वहीं वजीराबाद गांव के रहने वाले पंडित लालू अमर उजाला को बताते हैं कि पिछले 30 सालों में उन्होंने यमुना को कभी इतना साफ नहीं देखा है।

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड और दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण कमेटी के अनुसार यमुना के पानी की गुणवत्ता में काफी सुधार हुआ है। DPCC की रिपोर्ट के अनुसार, यमुना नदी के पानी में पिछले साल के अप्रैल महीने की तुलना में बायोलॉजिकल ऑक्सीजन डिमांड में 33 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है, जो अपने आप में एक बड़ी बात है। DPCC ने बताया कि औद्योगिक कचरे के बंद होने से और पानी के बहाव की वजह से नदी काफी हद तक स्वच्छ है, हालांकि नदी का पानी अब भी मानकों पर खरा नहीं उतरता क्योंकि नदी में घरेलू नालों का पानी जा ही रहा है।

नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने अप्रैल महीने की शुरुआत में केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (CPCB) और दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण कमेटी (DPCC) को लॉकडाउन के दौरान यमुना नदी के पानी की गुणवत्ता जांचने को कहा था।

Read Also: ‘राम तेरी गंगा साफ हो गई…’ लॉकडाउन से ऋषिकेश और हरिद्वार में गंगा का पानी हुआ साफ

Yamuna पहले और अब:

वहीं इंस्टाग्राम पर एक यूजर अभिनव शाह ने यमुना की पहले और अब की तस्वीरें शेयर की है। दोनों तस्वीरें नई दिल्ली के ओखला बैराज से ली गयी है। पहली तस्वीर 07 नवंबर 2016 की है, जब यमुना नदी प्रदूषण के कारण सफेद झाग की परत से ढकी हुई है। दूसरी तस्वीर लॉकडाउन के दौरान 14 अप्रैल 2020 को ली गई है। दोनों तस्वीरों में प्रदूषण में अंतर साफ नजर आ रहा है।


WeUttarakhand की न्यूज़ पाएं अब Telegram पर - यहां CLICK कर Subscribe करें (आप हमारे साथ फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर जुड़ सकते हैं)

Latest Updates

वर्ल्ड कप की मेजबानी करने वाला स्टेडियम, खेत की तरह दिख रहा है, 2 फीट लंबी घास से भरा मैदान

खेत जैसा नजर आता है वो मैदान जिस पर कभी वर्ल्ड कप का मैच हुआ था। पटना के मोइनुल हक स्टेडियम(Moin-ul-Haq Stadium),...

Mirzapur Season 2: जानिए आखिर ट्विटर पर क्यों ट्रेंड हो रहा है बॉयकॉट मिर्ज़ापुर 2, गुड्डू भैया से जुड़ा है मामला.. पढ़ें

लंबे इंतजार के बाद अमेज़न प्राइम वीडियो ने सोमवार को मिर्जापुर के दूसरे सीज़न की रिलीज़ डेट की घोषणा की। लेकिन मंगलवार...

भूमि पूजन: अयोध्या को सील करने की तैयारी, 4 अगस्त को नहीं मिलेगा किसी को भी प्रवेश

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 5 अगस्त को अयोध्या में श्री राम मंदिर की भूमि पूजन के लिए पहुंचेंगे इस को ध्यान में रखते...

1983 वर्ल्ड कप चैंपियन भारतीय क्रिकेट टीम को कितने पैसे मिलते थे जानिए

दिग्गज पाकिस्तानी क्रिकेटर रमीज राजा ने 1983 वर्ल्ड कप जीतने वाली भारतीय टीम की पे-स्लिप शेयर की है। कपिल देव की कप्तानी...

हाईस्कूल में फेल हुई छात्रा ने पिया जहर, वहीं पिथौरागढ़ में छात्रा ने की फांसी लगाकर आत्महत्या

उत्तराखंड के नैनीताल में हाईस्कूल में फेल होने के बाद गवर्नमेंट इंटर कॉलेज बाजुनियाहल्लु की एक छात्रा ने आत्मघाती कदम उठाया। दरअसल,...