Home National Maharana Pratap Jayanti 2020 :निडर योद्धा महाराणा प्रताप के बारे में जाने...

Maharana Pratap Jayanti 2020 :निडर योद्धा महाराणा प्रताप के बारे में जाने ये 6 बातें

Maharana Pratap Jayanti 2020 : आज राजस्थान के वीर सपूत, महान योद्धा और अदभुत शौर्य व साहस के प्रतीक महाराणा प्रताप की जयंती है। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार महाराणा प्रताप का जन्म 9 मई, 1540 को कुंभलगढ़ दुर्ग (पाली) में हुआ था। लेकिन राजस्थान में राजपूत समाज का एक बड़ा तबका उनका जन्मदिन हिन्दू तिथि के हिसाब से मनाता है। चूंकि 1540 में 9 मई को ज्येष्ठ शुक्ल की तृतीया तिथि थी, इसलिए इस हिसाब से इस साल उनकी जयंती 25 मई को भी मनाई जाएगी। मुगलों को चकमा देने वाले महान योद्धा महाराणा प्रताप को उनके समय से आज तक जाना जाता है।

Maharana Pratap Jayanti 2020 :आइए जानते हैं कुछ बातें मेवाड़ के महाराजा महाराणा प्रताप के बारे में …

  • कहते हैं हल्दीघाटी युद्ध 18 जून, 1576 को मुगल सम्राट अकबर और महाराणा प्रताप के बीच लड़ा गया था। अकबर और महाराणा प्रताप के बीच का यह युद्ध महाभारत युद्ध की तरह विनाशकारी साबित हुआ था।
  • महाराणा प्रताप के पास ‘चेतक’ नाम का एक घोड़ा था जो उन्हें सबसे प्रिय था। प्रताप की वीरता की कहानियों में चेतक का अपना स्थान है। उसकी फुर्ती, रफ्तार और बहादुरी से राणा ने कई लड़ाइयां जीती ।
  • बताया जाता है कि महाराणा प्रताप के भाले का वजन 81 किलोग्राम था और उनका कवच 72 किलो का था। उनके भाले, कवच, ढाल और दो तलवारों का वजन 208 किलो था।
  • आपको बता दें हल्दी घाटी की लड़ाई में महाराणा प्रताप के पास केवल 20000 सैनिक और अकबर के पास 85000 सैनिक थे। फिर भी महाराणा प्रताप ने हार नहीं मानी और आजादी की लड़ाई लड़ी।यह मध्यकालीन भारतीय इतिहास का सबसे चर्चित युद्ध है। इस युद्ध में प्रताप का घोड़ा चेतक जख्मी हो गया था। इस युद्ध के बाद मेवाड़, चित्तौड़, गोगुंडा, कुंभलगढ़ और उदयपुर पर मुगलों का कब्जा हो गया था। अधिकांश राजपूत राजा मुगलों के अधीन हो गए लेकिन महाराणा ने कभी भी स्वाभिमान को नहीं छोड़ा। उन्होंने मुगल सम्राट अकबर की अधीनता स्वीकार नहीं की और कई सालों तक संघर्ष किया।
  • कहते हैं कि अकबर ने महाराणा प्रताप को शांतिपूर्वक युद्ध खत्म करने के लिए 6 शांति दूत भेजे थे, लेकिन महाराणा प्रताप ने हर बार उसके प्रस्ताव को यह कहते हुए ठुकरा दिया कि राजपूत योद्धा इसे कभी बर्दाश्त नहीं कर सकते।
  • 1596 में शिकार खेलते समय उन्हें चोट लगी जिससे वह कभी उबर नहीं पाए। 19 जनवरी 1597 को सिर्फ 57 वर्ष आयु में चावड़ में उनका देहांत हो गया।

WeUttarakhand की न्यूज़ पाएं अब Telegram पर - यहां CLICK कर Subscribe करें (आप हमारे साथ फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर जुड़ सकते हैं)

Latest Updates

वर्ल्ड कप की मेजबानी करने वाला स्टेडियम, खेत की तरह दिख रहा है, 2 फीट लंबी घास से भरा मैदान

खेत जैसा नजर आता है वो मैदान जिस पर कभी वर्ल्ड कप का मैच हुआ था। पटना के मोइनुल हक स्टेडियम(Moin-ul-Haq Stadium),...

Mirzapur Season 2: जानिए आखिर ट्विटर पर क्यों ट्रेंड हो रहा है बॉयकॉट मिर्ज़ापुर 2, गुड्डू भैया से जुड़ा है मामला.. पढ़ें

लंबे इंतजार के बाद अमेज़न प्राइम वीडियो ने सोमवार को मिर्जापुर के दूसरे सीज़न की रिलीज़ डेट की घोषणा की। लेकिन मंगलवार...

भूमि पूजन: अयोध्या को सील करने की तैयारी, 4 अगस्त को नहीं मिलेगा किसी को भी प्रवेश

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 5 अगस्त को अयोध्या में श्री राम मंदिर की भूमि पूजन के लिए पहुंचेंगे इस को ध्यान में रखते...

1983 वर्ल्ड कप चैंपियन भारतीय क्रिकेट टीम को कितने पैसे मिलते थे जानिए

दिग्गज पाकिस्तानी क्रिकेटर रमीज राजा ने 1983 वर्ल्ड कप जीतने वाली भारतीय टीम की पे-स्लिप शेयर की है। कपिल देव की कप्तानी...

हाईस्कूल में फेल हुई छात्रा ने पिया जहर, वहीं पिथौरागढ़ में छात्रा ने की फांसी लगाकर आत्महत्या

उत्तराखंड के नैनीताल में हाईस्कूल में फेल होने के बाद गवर्नमेंट इंटर कॉलेज बाजुनियाहल्लु की एक छात्रा ने आत्मघाती कदम उठाया। दरअसल,...