Home National देश में पहली बार Push-Pull technology से चली राजधानी एक्सप्रेस; जुड़ी नई...

देश में पहली बार Push-Pull technology से चली राजधानी एक्सप्रेस; जुड़ी नई उपलब्धि, बचेगा समय

आज दिल्ली-मुम्बई राजधानी एक्सप्रेस एक नई तकनीक से लैस होकर अपने गंतव्य तक पहुंची। देश मे पहली बार ट्रेन को Push-Pull technology के माध्यम से चलाया गया। यह ट्रेन रोजाना मुम्बई और दिल्ली के बीच चलेंगी। इस टेक्नोलॉजी के सहारे अब मुसाफिर अपने गंतव्य तक जल्दी पहुंच सकेंगे। इससे रेलवे और सवारी दोनो का समय बचेगा।

इस बात की जानकारी रेलवे मंत्रालय की ओर से जारी एक बयान में दी गई। बयान में रेलवे ने कहा कि छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस मुंबई से हजरत निजामुद्दीन राजधानी सुपरफास्ट स्पेशल ट्रैन की स्पीड बढ़ाने का फैसला किया गया है। ट्रेन के रूट में एक अतिरिक्त स्टेशन ग्वालियर को भी जोड़ा गया है।

रेलवे मंत्री पीयूष गोयल का कहना है कि मुंबई-दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस की बदली हुई टाइमिंग और ज्यादा स्पीड का फायदा रेल यात्रियों को मिलेगा। मुसाफिर अपनी मंजिल तक पहले के मुकाबले जल्दी पहुंच सकेंगे। इसके अलावा ट्रेन भी अब 13 जनवरी से हफ्ते में 4 बार चलेगी। पिछले साल 14 सितंबर को इस ट्रिम को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया था। इस ट्रेन में AC-फर्स्ट क्लास, 5 AC-2 टियर और 11 AC-3 टियर कोच और पेंट्री की सुविधा भी होती है।

मौजूदा समय में ये ट्रेन छत्रपति शिवाजी टर्मिनस, मुंबई से रोजाना शाम 4 बजे निकलती है और अगली सुबह दिल्ली के हजरत निजामुद्दीन स्टेशन पर 9 बजकर 55 मिनट पर पहुंच जाती है। वापसी में ये हजरत निजामु्द्दीन से शाम 4:55 बजे चलती है और अगली सुबह मुंबई 11.15 बजे पहुंच जाती है।

आप इस ट्रेन की बुकिंग भारतीय रेलवे की वेबसाइट www.irctc.co.in में जाकर या
सभी कंप्यूटराइज्ड रिजर्वेशन सेंटर्स पर जाकर भी कर सकते हैं। राजधानी सुपरफास्ट विशेष ट्रेन के हाल्ट में पूरी जानकारी के लिए www.enquiry.indianrail.gov.in पर मौजूद है। इसके अलावा आप NTES ऐप डाउनलोड कर सकते हैं।

क्या है Push-Pull technology

पुश-पुल टेक्नोलॉजी रेलवे की नवीनतम तकनीक है। इस टेक्नोलॉजी में ट्रेन के आगे और पीछे इंजन जुड़ा रहता है जिसमे दोनों इंजन एक साथ मिलकर काम करते हैं। इससे ट्रेन को गति बढ़ जाती है। इसके अलावा इन्हें घाट सेक्शन पर बदलने के लिए बार-बार निकालना और जोड़ना नहीं पड़ता, जिससे ट्रेन का काफी वक्त बचता है और मुसाफिर अपनी मंजिल पर कम समय में पहुंच सकते हैं।

यह भी पढ़ें: Char Dham road project: सामरिक दृष्टि से होना चाहिए चौड़ीकरण? सर्वोच्च न्यायालय ने समिति रिपोर्ट्स पर मांगी प्रतिक्रियाएं


WeUttarakhand की न्यूज़ पाएं अब Telegram पर - यहां CLICK कर Subscribe करें (आप हमारे साथ फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर जुड़ सकते हैं)

Latest Updates