Home National Hop-Shoot: इस सब्जी की कीमत है 1 लाख रुपये किलो, बिहार के...

Hop-Shoot: इस सब्जी की कीमत है 1 लाख रुपये किलो, बिहार के 38 वर्षीय व्यक्ति ने उगा डाली फसल

क्या अप कभी इतनी महंगी सब्जी खरीदने के बारे में सोचा है जिसकी कीमत लाखों में हो? या फिर आपके दिमाग मे कभी इतनी महंगी सब्जी का ख्याल भी आया हो। जी हाँ, इस सब्जी के एक किलोग्राम की कीमत लगभग 1 लाख रुपये है। दुनिया की सबसे महंगी सब्जी की खेती ‘हॉप-शूट्स’ (Hop-Shoot) बिहार के औरंगाबाद जिले में एक परीक्षण के आधार पर शुरू हुई है।

बिहार के 38 वर्षीय किसान अमरेश सिंह ने अपनी जमीन के 5 कट्ठे में ‘hop-shoots’ की खेती शुरू की है। औरंगाबाद जिले के नवीनगर ब्लॉक के अंतर्गत करमडीह गाँव के रहने वाले अमरेश ने 2012 में हजारीबाग के सेंट कोलंबस कॉलेज से इंटरमीडिएट किया है।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड की इस दुर्गम घाटी में पहुंचने वाले पहले सीएम बने त्रिवेंद्र सिंह रावत

Hop-Shoots की कीमत 1 लाख प्रति किलो

अंतरराष्ट्रीय बाजारों में ‘hop-shoots’ की कीमत 1000 पाउंड प्रति किलोग्राम के लगभग है। यदि इसे भारतीय बाजार में खरीदा जय तो इसकी कीमत लगभग 1 लाख तक पहुंच जाती है। वैसे तो यह सब्जी भारतीय बाजार में कम ही देखी जाती है लेकिन इसके लिए पहले से ऑर्डर देना पड़ता है। इस वर्ष अमरेश की 60 प्रतिशत से अधिक खेती सफलतापूर्वक हुई है।

वाराणसी में भारतीय सब्जी अनुसंधान संस्थान के कृषि वैज्ञानिक डॉ लाल की देखरेख में hop-shoots (humulus-lupulus) की खेती चल रही है। सिंह ने Indian Express से कहा, “मैंने दो महीने पहले वाराणसी में भारतीय सब्जी अनुसंधान संस्थान से इसे लाने के बाद इस सब्जी की पौध लगाई है। मुझे उम्मीद है कि यह बिहार में भी एक शानदार सफलता होगी और कृषि में बदलाव होगा।”

टीबी के उपचार में hop-shoots का इस्तेमाल

‘hop-shoots’ का फल, फूल, और इसके तने सभी का उपयोग पेय बनाने, बीयर बनाने और औषधी बनाने के लिए किया जाता है जैसे कि एंटीबायोटिक। इस वनस्पति के तने से बनी दवा का भी तपेदिक (टीबी) के उपचार में काफी प्रभावशाली पाया गया है। इसके फूल को हॉप-शंकु या स्ट्रोबाइल कहा जाता है, जिसका उपयोग बीयर बनाने में स्टेबिलाइजिंग तत्व के रूप में किया जाता है। बाकी टहनियों का उपयोग भोजन और दवा के लिए किया जाता है।

जड़ी-बूटी के रूप में ‘hop-shoots’ का उपयोग यूरोपीय देशों में भी लोकप्रिय है, जहां इसका उपयोग त्वचा को चमकदार और गोरा बनाए रखने के लिए किया जाता है।सब्जियाँ एंटीऑक्सिडेंट का एक समृद्ध स्रोत है। ‘hop-shoots’ को 11 वीं शताब्दी की शुरुआत में खोजा गया था।इसका इस्तेमाल बीयर में स्वाद बढ़ाने वाले तत्व के रूप में किया जाने लगा। और फिर धीरे-धीरे इसका उपयोग हर्बल दवा और सब्जी के रूप में किया जाने लगा।

‘hop-shoots’ में ह्यूमलोन और ल्यूपुलोन नामक एक एसिड होता है, जो मानव शरीर में कैंसर कोशिकाओं को खत्म करने में प्रभावी माना जाता है। इससे बानी दवा पाचन तंत्र में सुधार करती है और डिप्रेशन से पीड़ित लोगों के लिए लाभकारी है। इसके अलावा यह एक एनाल्जेसिक है जिस कारण अनिद्रा के इलाज में यह बेहद कारगर है।

Viral Video: पानी समझ कर सेनिटाइजर पी गए BMC के असिस्टेंट कमिश्नर, वीडियो हुआ वायरल


WeUttarakhand की न्यूज़ पाएं अब Telegram पर - यहां CLICK कर Subscribe करें (आप हमारे साथ फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर जुड़ सकते हैं)

Latest Updates