Home National क्वॉरेंटाइन सेंटर में एक पेटूराम 40 रोटियां, 80 लिट्टीयां खा गया, लोग...

क्वॉरेंटाइन सेंटर में एक पेटूराम 40 रोटियां, 80 लिट्टीयां खा गया, लोग कर रहे हैं त्राहिमाम

लॉक डाउन के दौरान क्वॉरेंटाइन सेंटर में रहने वाले लोगों को दिक्कतें हो रही हैं यह बात तो आपने सुनी होगी, लेकिन क्वॉरेंटाइन सेंटर में रह रहे एक युवक की वजह से आला अफसर और रसोइयों को दिक्कत शायद आप पहली बार सुन रहे होंगे। जी हां, बिहार के बक्सर में एक क्वॉरेंटाइन सेंटर में रहने वाले एक युवक ने सबको परेशान कर दिया है। एक तरफ लोग उसकी आदतों को देखकर हैरान हैं, वहीं क्वॉरेंटाइन सेंटर में रसोइया परेशान हैं। युवक की भूख ने सभी को हैरानी में डाला हुआ है, जिससे वहां रहने वाले लोगों और खाना बनाने वाला रसोइया को बहुत कठिनाई हो रही है। अब युवक के लिए भोजन की व्यवस्था करना भी मुश्किल हो गया है।

अकेले 10 लोगों का खाना खा जाता है

  युवक की खुराक ऐसी है कि देखने वाले सभी लोग वाले हैरान हैं। वह अकेले दस लोगों को खाना आराम से खा जाता है।उसके नाश्ते की खुराक में 40 रोटियां और चावल की कई प्लेटें होती हैं। वह एक समय में 80 लिट्टी खा जाता है, लेकिन फिर भी उसका पेट नहीं भरता है। दरअसल, इस युवक का नाम अनूप ओझा है, जो इस समय बक्सर जिले के मंजवारी क्वारंटाइन सेंटर में रह रहा है और उसे आज क्वारंटाइन सेंटर से घर जाने के लिए कहा जाएगा।

80 लिट्टी खाने के बाद भी नहीं भरता पेट

  क्वॉरेंटाइन सेंटर में रहने वाले लोगों का कहना है कि कुछ दिनों पहले भोजन में लिट्टी थी। 80 लिट्टी खाने के बाद भी अनूप का पेट नहीं भरा था। इसे देखकर हम सब हैरान थे। दरअसल अनूप की भूख ऐसी है कि ये दस लोगों का खाना अकेले ही चट कर जाता है। अनूप खुद कहते हैं कि वह 30-32 रोटियों के साथ नाश्ता करते हैं, फिर भी पेट खाली लगता है।

अधिकारी से लेकर रसोइया तक परेशान हैं

  इसकी खुराक से ब्लॉक के अधिकारी भी हैरान और परेशान हैं। जब इस संगरोध केंद्र में खाद्य पदार्थ समाप्त होने लगे, तो अधिकारियों ने इसका कारण पूछा। तब बताया गया कि एक पेटू केंद्र में आया है जो सब कुछ खा जाता है। जब अधिकारी विश्वास नहीं हुआ, तो ब्लॉक के अधिकारी एक दिन ठीक भोजन के वक्त क्वॉरेंटाइन सेंटर में पहुँच गए। जब उन्होंने अपनी आँखों से अनूप की खुराक देखी, तो वह हैरान रह गया।

सिमरी के बीडीओ अजय कुमार सिंह ने बताया कि अनूप नाश्ते में 40 रोटियां खाते हैं। खाना बनाने वाला भी अनूप के लिए रोटी बनाने से मना कर देता है। उसे इतनी रोटी बनाने में परेशानी हो रही है।

  खरहा टांड़ पंचायत का 23 वर्षीय युवक अनूप ओझा वर्तमान में मंझवारी गांव में एक क्वॉरेंटाइन सेंटर में रह रहा है। वह राजस्थान से घर लौटा है, और 14 दिनों के लिए यहां उसे एक क्वॉरेंटाइन सेंटर में रखा गया है। जब गुरुवार को उसका क्वॉरेंटाइन समय पूरा हो जाएगा, तो उसे घर भेज दिया जाएगा, तब यहाँ के लोग राहत की सांस लेंगे।


WeUttarakhand की न्यूज़ पाएं अब Telegram पर - यहां CLICK कर Subscribe करें (आप हमारे साथ फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर जुड़ सकते हैं)

Latest Updates

वर्ल्ड कप की मेजबानी करने वाला स्टेडियम, खेत की तरह दिख रहा है, 2 फीट लंबी घास से भरा मैदान

खेत जैसा नजर आता है वो मैदान जिस पर कभी वर्ल्ड कप का मैच हुआ था। पटना के मोइनुल हक स्टेडियम(Moin-ul-Haq Stadium),...

Mirzapur Season 2: जानिए आखिर ट्विटर पर क्यों ट्रेंड हो रहा है बॉयकॉट मिर्ज़ापुर 2, गुड्डू भैया से जुड़ा है मामला.. पढ़ें

लंबे इंतजार के बाद अमेज़न प्राइम वीडियो ने सोमवार को मिर्जापुर के दूसरे सीज़न की रिलीज़ डेट की घोषणा की। लेकिन मंगलवार...

भूमि पूजन: अयोध्या को सील करने की तैयारी, 4 अगस्त को नहीं मिलेगा किसी को भी प्रवेश

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 5 अगस्त को अयोध्या में श्री राम मंदिर की भूमि पूजन के लिए पहुंचेंगे इस को ध्यान में रखते...

1983 वर्ल्ड कप चैंपियन भारतीय क्रिकेट टीम को कितने पैसे मिलते थे जानिए

दिग्गज पाकिस्तानी क्रिकेटर रमीज राजा ने 1983 वर्ल्ड कप जीतने वाली भारतीय टीम की पे-स्लिप शेयर की है। कपिल देव की कप्तानी...

हाईस्कूल में फेल हुई छात्रा ने पिया जहर, वहीं पिथौरागढ़ में छात्रा ने की फांसी लगाकर आत्महत्या

उत्तराखंड के नैनीताल में हाईस्कूल में फेल होने के बाद गवर्नमेंट इंटर कॉलेज बाजुनियाहल्लु की एक छात्रा ने आत्मघाती कदम उठाया। दरअसल,...