Home National 6 फीट की सोशल डिस्टेंसिंग पर्याप्त नहीं, कोरोना 18 फीट दूर तक...

6 फीट की सोशल डिस्टेंसिंग पर्याप्त नहीं, कोरोना 18 फीट दूर तक ऐसे जा सकता है…

Social distancing : दुनिया में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 50 लाख के पार हो चुकी है। हमें इस वायरस से जूझते हुए काफी समय हो गया है। अब दुनिया के कई देश लंबे समय से चल रहे लॉक डाउन को हटाने की तैयारी कर रहे हैं। भारत भी इसमें शामिल है।

वहीं भारत में अभी लॉकडाउन में कई तरह की रियायतें दी जा रही हैं, लेकिन सामाजिक दूरी का सख्ती से पालन करवाया/करा जा रहा है। लेकिन एक शोध से पता चला है कि अगर हल्की हवा भी चल रही हो, तो छह फीट की सामाजिक दूरी भी वायरस के प्रसार को रोकने के लिए पर्याप्त नहीं है।

 Social distancing : कण इतनी दूरी तक जा सकते हैं

 वर्तमान में, कई देशों में सामाजिक दूरी की मानक दूरी केवल छह फीट है, लेकिन हाल में हुए एक अध्ययन से पता चला है कि यदि हल्की हवा बह रही है, तो वायरस की बूंदें हवा में 18 फीट तक रह सकती हैं। साइप्रस के निकोसिया विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं का कहना है कि हवा में इस महामारी के वायरस के प्रसार को समझने के लिए, यह समझना आवश्यक है कि जब लोग खांसी करते हैं तो हवा में कण कैसे फैलते हैं।

 
  यह शोध फिजिक्स ऑफ फ्ल्यूड जर्नल में प्रकाशित हुआ है। अध्ययन के अनुसार, शोधकर्ताओं का कहना है कि पांच किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलने वाली हल्की हवा के दौरान भी, मानव की लार या लार के कण पांच सेकंड में 18 फीट तक जा सकते हैं। शोध के सह-लेखक दिमित्रिस ड्रैककिस का कहना है कि लार की बूंदें अलग-अलग ऊंचाइयों वाले व्यस्कों और बच्चों दोनों पर प्रभाव डाल सकते हैं। छोटी ऊंचाई वाले लोगों के लिए अधिक जोखिम है यदि वे इन लार की बूंदों की जद में आ रहे हैं।

 
  शोध के अनुसार, इंसान की लार- एक जटिल तरल पदार्थ है। यह खांसी के साथ आसपास की हवा में बड़ी मात्रा में आगे तक सफर कर सकता है। कई कारक इसके हवा में सफर को प्रभावित करते हैं। इनमें बूंदों का आकार और संख्या, एक-दूसरे के साथ उनकी अंतरक्रिया, आसपास की हवा में उनका फैलाव या वाष्पीकरण, हवा में गर्मी का संचरण, नमी और तापमान शामिल हैं।


WeUttarakhand की न्यूज़ पाएं अब Telegram पर - यहां CLICK कर Subscribe करें (आप हमारे साथ फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर जुड़ सकते हैं)

Latest Updates

वर्ल्ड कप की मेजबानी करने वाला स्टेडियम, खेत की तरह दिख रहा है, 2 फीट लंबी घास से भरा मैदान

खेत जैसा नजर आता है वो मैदान जिस पर कभी वर्ल्ड कप का मैच हुआ था। पटना के मोइनुल हक स्टेडियम(Moin-ul-Haq Stadium),...

Mirzapur Season 2: जानिए आखिर ट्विटर पर क्यों ट्रेंड हो रहा है बॉयकॉट मिर्ज़ापुर 2, गुड्डू भैया से जुड़ा है मामला.. पढ़ें

लंबे इंतजार के बाद अमेज़न प्राइम वीडियो ने सोमवार को मिर्जापुर के दूसरे सीज़न की रिलीज़ डेट की घोषणा की। लेकिन मंगलवार...

भूमि पूजन: अयोध्या को सील करने की तैयारी, 4 अगस्त को नहीं मिलेगा किसी को भी प्रवेश

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 5 अगस्त को अयोध्या में श्री राम मंदिर की भूमि पूजन के लिए पहुंचेंगे इस को ध्यान में रखते...

1983 वर्ल्ड कप चैंपियन भारतीय क्रिकेट टीम को कितने पैसे मिलते थे जानिए

दिग्गज पाकिस्तानी क्रिकेटर रमीज राजा ने 1983 वर्ल्ड कप जीतने वाली भारतीय टीम की पे-स्लिप शेयर की है। कपिल देव की कप्तानी...

हाईस्कूल में फेल हुई छात्रा ने पिया जहर, वहीं पिथौरागढ़ में छात्रा ने की फांसी लगाकर आत्महत्या

उत्तराखंड के नैनीताल में हाईस्कूल में फेल होने के बाद गवर्नमेंट इंटर कॉलेज बाजुनियाहल्लु की एक छात्रा ने आत्मघाती कदम उठाया। दरअसल,...