Home International कोरोना के खिलाफ जंग में ‘ब्रह्मास्त्र’ बनेगी रेमडेसिवीर दवा, FDA ने दी...

कोरोना के खिलाफ जंग में ‘ब्रह्मास्त्र’ बनेगी रेमडेसिवीर दवा, FDA ने दी मंजूरी

Remdesivir : अमेरिकी नियामकों ने प्रायोगिक दवा रेमडेसिवीर के आपातकालीन उपयोग की अनुमति दे दी है, जो कुछ कोरोनोवायरस रोगियों को तेजी से ठीक करने में कारगर साबित हो रही है।यह जानलेवा कोरोना से लड़ने में मदद करने वाली पहली दवा है। अब तक दुनिया भर में कोरोना से 2, 30, 000 लोगों की मौत हो चुकी है।

Remdesivir : कोरोना मरीजों को यह दवा उपलब्ध होगी

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने शुक्रवार को व्हाइट हाउस में फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन(एफडीए) आयुक्त के साथ इस खबर की घोषणा की| अस्पताल में भर्ती कोरोना मरीजों को यह दवा उपलब्ध होगी।

एक शीर्ष अमेरिकी संक्रामक रोग विशेषज्ञ, डॉ. एंथोनी फौसी ने, दवा रेमडेसिवीर के एक महत्वपूर्ण क्लिनिकल परीक्षण के प्रारंभिक परिणामों को कोरोनावायरस के खिलाफ लड़ाई में कारगर बताया है। शुरुआती परिणाम बताते हैं कि जिन रोगियों को रेमडेसिवीर दवा दी गई है, वे उन लोगों की तुलना में 31 प्रतिशत अधिक तेजी से ठीक हो गए जिन्हें प्लेसबो उपचार दिया गया था।

जिन कोरोना वायरस संक्रमित मरीजों को रेमडेसिवीर दी गई वह 11 दिन के भीतर ठीक हो गए। जबकी जिन्हें प्लेसबो ट्रीटमेंट दिया गया वो 15 दिनों में ठीक हुए। आपको बता दें कि भारत कोरोना वैक्सीन के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के साथ संयुक्त परीक्षण का हिस्सा है। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) के निदेशक डॉ. रमन गंगाखेडकर ने पहले कहा था कि भारत ने रेमडेसिवीर के परीक्षण पर नजर रखी है और इससे संबंधित सभी डेटा एकत्र किया जा रहा है।

रेमडेसिवीर अमेरिकी गिलियड कंपनी द्वारा बनाई गई दवा है, जो कोरोना वायरस के खिलाफ चल रही लड़ाई में एक प्रमुख हथियार साबित हो रही है।

कहां से आई रेमडेसिवीर दवा ?

दरअसल इस दवा को इबोला के इलाज के लिए विकसित किया गया था। रेमडेसिवीर, एक एंटीवायरल दवा है। कोई भी वायरस जब इंसानी शरीर में जाता है तो वह अपने आप को रेप्लीकेट( यानी अपनी तरीके की दूसरी प्रतियां तैयार करने लगता है ) करने लगता है और यह सब होता है इंसान के शरीर में मौजूद कोशिकाओं में, लेकिन वायरस को इस प्रक्रिया में एक एंजाइम की जरूरत होती है। रेमडेसिवीर दरअसल इसी एंजाइम पर हमला करके वायरस के रास्ते में एक तरह का रोड़ा बनती है।


WeUttarakhand की न्यूज़ पाएं अब Telegram पर - यहां CLICK कर Subscribe करें (आप हमारे साथ फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर जुड़ सकते हैं)

Latest Updates

वर्ल्ड कप की मेजबानी करने वाला स्टेडियम, खेत की तरह दिख रहा है, 2 फीट लंबी घास से भरा मैदान

खेत जैसा नजर आता है वो मैदान जिस पर कभी वर्ल्ड कप का मैच हुआ था। पटना के मोइनुल हक स्टेडियम(Moin-ul-Haq Stadium),...

Mirzapur Season 2: जानिए आखिर ट्विटर पर क्यों ट्रेंड हो रहा है बॉयकॉट मिर्ज़ापुर 2, गुड्डू भैया से जुड़ा है मामला.. पढ़ें

लंबे इंतजार के बाद अमेज़न प्राइम वीडियो ने सोमवार को मिर्जापुर के दूसरे सीज़न की रिलीज़ डेट की घोषणा की। लेकिन मंगलवार...

भूमि पूजन: अयोध्या को सील करने की तैयारी, 4 अगस्त को नहीं मिलेगा किसी को भी प्रवेश

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 5 अगस्त को अयोध्या में श्री राम मंदिर की भूमि पूजन के लिए पहुंचेंगे इस को ध्यान में रखते...

1983 वर्ल्ड कप चैंपियन भारतीय क्रिकेट टीम को कितने पैसे मिलते थे जानिए

दिग्गज पाकिस्तानी क्रिकेटर रमीज राजा ने 1983 वर्ल्ड कप जीतने वाली भारतीय टीम की पे-स्लिप शेयर की है। कपिल देव की कप्तानी...

हाईस्कूल में फेल हुई छात्रा ने पिया जहर, वहीं पिथौरागढ़ में छात्रा ने की फांसी लगाकर आत्महत्या

उत्तराखंड के नैनीताल में हाईस्कूल में फेल होने के बाद गवर्नमेंट इंटर कॉलेज बाजुनियाहल्लु की एक छात्रा ने आत्मघाती कदम उठाया। दरअसल,...