Home International आखिर लॉकडाउन के बाद दुनिया कैसी होगी?

आखिर लॉकडाउन के बाद दुनिया कैसी होगी?

Lockdown : जब देश में पहली बार लॉकडाउन किया गया था, तो सभी को लगा कि यह कुछ दिनों के लिए ही होगा। जिसके बाद सब कुछ सामान्य हो जाएगा। लोग पहले की तरह काम पर जा सकेंगे, गाड़ियां फिर से सड़कों पर दौड़ती दिखाई देंगी, हम फिर बिना मास्क के खुली हवा में सांस ले पाएंगे।

लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ, कोरोना के बढ़ते मामलों के कारण, लोगों की आशाओं को तोड़ते हुए लॉकडाउन को आगे बढ़ाया गया। आज स्थिति यह है कि लॉकडाउन का तीसरा चरण खत्म हो गया है और लॉकडाउन -4 शुरू हो गया है। लेकिन स्थिति जस की तस बनी हुई है।

इसके विपरीत, विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के बयानों ने वर्तमान स्तिथि को देखते हुए कहा है कि कोरोना कभी दूर नहीं जा सकता है और हमें इसके साथ रहना होगा। तब से लोगों के मन में यह सवाल उठ रहा है कि ऐसा होने पर क्या होगा, क्या लॉकडाउन खुलने के बाद भी हमें हमेशा इस महामारी के डर से जीना पड़ेगा? क्या हम कभी अपने दोस्तों और परिचितों को गले नहीं लगा पाएंगे? हम वायरस के डर से सड़क पर चाट खाने से डरेंगे, सड़कों पर एक-दूसरे का हाथ पकड़कर चलना भूल जाएंगे।

बाजार सूना हो जाएगा, त्यौहार फीके पड़ जाएंगे और यह सब एक वायरस के कारण है जो नग्न आंखों से भी दिखाई नहीं देता है? बड़े देश, बुद्धिजीवी, अर्थशास्त्री इस समय वैश्विक अर्थव्यवस्था के बारे में चिंतित हैं, लेकिन जब पूरी मानवता डर के साये में जीने को मजबूर है, तो आखिर धन का कौन सा पहाड़ इस स्थिति में हमें खुशी देगा।लेकिन कहीं न कहीं इंसान के दिल में अब भी उम्मीद है कि एक दिन सबकुछ सामान्य हो जाएगा और वह पहले की तरह अपने जीवन का आनंद ले पाएगा।

यह अभी भी मनुष्य की निर्मित चेतना में छिपा नहीं है कि असंख्य अड़चने , महामारी, प्रलय इतिहास में उसके रास्ते में आए हैं, लेकिन उसने इसे जीतकर अपनी यात्रा जारी रखी है, जो अभी भी जारी है और आगे भी रहेगी। दुनिया की अधिकांश प्राचीन सभ्यताओं का कहना है कि जो व्यक्ति जन्म लेता है उसकी मृत्यु निश्चित है, उसके अनुसार यह महामारी भी जन्म लेती है, इसलिए कहीं न कहीं विराम अवश्य होना चाहिए और मनुष्य को इसे अवश्य खोजना चाहिए।


WeUttarakhand की न्यूज़ पाएं अब Telegram पर - यहां CLICK कर Subscribe करें (आप हमारे साथ फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर जुड़ सकते हैं)

Latest Updates

वर्ल्ड कप की मेजबानी करने वाला स्टेडियम, खेत की तरह दिख रहा है, 2 फीट लंबी घास से भरा मैदान

खेत जैसा नजर आता है वो मैदान जिस पर कभी वर्ल्ड कप का मैच हुआ था। पटना के मोइनुल हक स्टेडियम(Moin-ul-Haq Stadium),...

Mirzapur Season 2: जानिए आखिर ट्विटर पर क्यों ट्रेंड हो रहा है बॉयकॉट मिर्ज़ापुर 2, गुड्डू भैया से जुड़ा है मामला.. पढ़ें

लंबे इंतजार के बाद अमेज़न प्राइम वीडियो ने सोमवार को मिर्जापुर के दूसरे सीज़न की रिलीज़ डेट की घोषणा की। लेकिन मंगलवार...

भूमि पूजन: अयोध्या को सील करने की तैयारी, 4 अगस्त को नहीं मिलेगा किसी को भी प्रवेश

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 5 अगस्त को अयोध्या में श्री राम मंदिर की भूमि पूजन के लिए पहुंचेंगे इस को ध्यान में रखते...

1983 वर्ल्ड कप चैंपियन भारतीय क्रिकेट टीम को कितने पैसे मिलते थे जानिए

दिग्गज पाकिस्तानी क्रिकेटर रमीज राजा ने 1983 वर्ल्ड कप जीतने वाली भारतीय टीम की पे-स्लिप शेयर की है। कपिल देव की कप्तानी...

हाईस्कूल में फेल हुई छात्रा ने पिया जहर, वहीं पिथौरागढ़ में छात्रा ने की फांसी लगाकर आत्महत्या

उत्तराखंड के नैनीताल में हाईस्कूल में फेल होने के बाद गवर्नमेंट इंटर कॉलेज बाजुनियाहल्लु की एक छात्रा ने आत्मघाती कदम उठाया। दरअसल,...