Home International जर्मनी कोरोवायरस के 'इम्युनिटी सर्टिफिकेट’ जारी करेगा हजारों लोगों को, ताकि वे...

जर्मनी कोरोवायरस के ‘इम्युनिटी सर्टिफिकेट’ जारी करेगा हजारों लोगों को, ताकि वे लॉकडाउन को जल्दी छोड़ सकें

जर्मनी के लोगों को जल्द ही ‘इम्युनिटी सर्टिफिकेट’ जारी किए जा सकते है, जो भी व्यक्ती वायरस के एंटीबॉडी के परीक्षण में पॉजीटिव पाया जाता है उसे दूसरे लोगों की तुलना में पहले देश के कोरोनावायरस लॉकडाउन को छोड़ने की अनुमति दी जाएगी ।

जर्मनी के राज्य वर्तमान में देश के कुछ हिस्सों में लगाए गए सख्त संगरोध के साथ लॉकडाउन में हैं।

डेर स्पीगेल पत्रिका के अनुसार, ब्रून्सविच में हेल्महोल्त्ज़ सेंटर फॉर इंफेक्शन रिसर्च के जर्मन शोधकर्ताओं ने जल्द ही आने वाले हफ्तों में सैकड़ों हजारों एंटीबॉडी परीक्षण भेजने की योजना बनाई है, जिससे कई हजारों लोग लॉकडाउन से मुक्त हो सकते हैं।

एंटीबॉडी परीक्षण को इस तरीके से डिज़ाइन किया गया है की जिससे पता लगाया जा सके की किसी व्यक्ति ने COVID -19 के लिए एंटीबॉडी विकसित की है, उससे यह पता चलता है कि वे एक समय में सिर्फ वायरस के वाहक रहे थे और उन्होंने प्रतिरक्षा ( इम्यूनिटी) का निर्माण किया है।

इस टेस्ट में पॉजीटिव आने वाले व्यक्ती को लॉकडाउन छोड़ने की अनुमति दी जा सकती है, या राष्ट्रीय सरकार उन क्षेत्रों में प्रतिबंधों को कम करने की अनुमति दे सकता है जहां तथाकथित “झुंड प्रतिरक्षा ( Herd Immunity) ” विकसित की गई है।

परियोजना के प्रमुख महामारी वैज्ञानिक जेरार्ड क्रूस ने पत्रिका को बताया “जिन लोगों में ये इम्यूनिटी पायी जाएगी , उन्हें एक प्रकार का टीकाकरण कार्ड दिया जा सकता है, उदाहरण के लिए, उन्हें अपने काम पर [कोरोनावायरस से संबंधित] प्रतिबंधों से छूट दी जाएगी “।

यदि टेस्ट को अप्रूव किया जाता है, तो इस प्रोजेक्ट में अप्रैल के शुरू में ही एक बार में जनता के 100,000 सदस्यों का परीक्षण किया जा सकेगा , जिसमें प्रतिरक्षा प्रमाण पत्र ( immunity certificate) संभावित रूप से जनता को आने वाले हफ्तों और महीनों में धीरे-धीरे सार्वजनिक स्थानों पर लौटने की अनुमति देगा।

जर्मनी में दुनिया में कोरोनोवायरस का सबसे कम मृत्यु दर है, जिसे कुछ विशेषज्ञों और टिप्पणीकारों ने एंजेल मर्केल की सरकार द्वारा शुरू किए गए व्यापक परीक्षण शासन का श्रेय दिया है।

वहीं, यूनाइटेड किंगडम में भी कोरोनोवायरस लॉकडाउन में छूट देने के लिए एंटीबॉडी-परीक्षण की समान योजना है।

बोरिस जॉनसन की सरकार ने 17 मिलियन से अधिक कोरोनोवायरस होम-टेस्टिंग किट का आदेश दिया है, जिसे यदि उपयोग के लिए अप्रूव किया जाता है, तो आने वाले हफ्तों में फ्रंटलाइन श्रमिकों को भेजा जा सकता है, साथ ही फार्मासिस्ट और अमेज़ॅन जैसे ऑनलाइन विक्रेताओं में खरीद के लिए उपलब्ध कराया जा सकता है।

स्पेन ने हाल ही में एक चीनी कंपनी के हज़ारों रैपिड कोरोनोवायरस परीक्षण किटों को वापस किया क्योंकि उनसे केवल 30% सटीकता प्राप्त हुई थी।


WeUttarakhand की न्यूज़ पाएं अब Telegram पर - यहां CLICK कर Subscribe करें (आप हमारे साथ फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर जुड़ सकते हैं)

Latest Updates

वर्ल्ड कप की मेजबानी करने वाला स्टेडियम, खेत की तरह दिख रहा है, 2 फीट लंबी घास से भरा मैदान

खेत जैसा नजर आता है वो मैदान जिस पर कभी वर्ल्ड कप का मैच हुआ था। पटना के मोइनुल हक स्टेडियम(Moin-ul-Haq Stadium),...

Mirzapur Season 2: जानिए आखिर ट्विटर पर क्यों ट्रेंड हो रहा है बॉयकॉट मिर्ज़ापुर 2, गुड्डू भैया से जुड़ा है मामला.. पढ़ें

लंबे इंतजार के बाद अमेज़न प्राइम वीडियो ने सोमवार को मिर्जापुर के दूसरे सीज़न की रिलीज़ डेट की घोषणा की। लेकिन मंगलवार...

भूमि पूजन: अयोध्या को सील करने की तैयारी, 4 अगस्त को नहीं मिलेगा किसी को भी प्रवेश

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 5 अगस्त को अयोध्या में श्री राम मंदिर की भूमि पूजन के लिए पहुंचेंगे इस को ध्यान में रखते...

1983 वर्ल्ड कप चैंपियन भारतीय क्रिकेट टीम को कितने पैसे मिलते थे जानिए

दिग्गज पाकिस्तानी क्रिकेटर रमीज राजा ने 1983 वर्ल्ड कप जीतने वाली भारतीय टीम की पे-स्लिप शेयर की है। कपिल देव की कप्तानी...

हाईस्कूल में फेल हुई छात्रा ने पिया जहर, वहीं पिथौरागढ़ में छात्रा ने की फांसी लगाकर आत्महत्या

उत्तराखंड के नैनीताल में हाईस्कूल में फेल होने के बाद गवर्नमेंट इंटर कॉलेज बाजुनियाहल्लु की एक छात्रा ने आत्मघाती कदम उठाया। दरअसल,...