Home International Mother's Day 2020 : आखिर क्या मतलब होता है 'माँ' शब्द का,...

Mother’s Day 2020 : आखिर क्या मतलब होता है ‘माँ’ शब्द का, क्या कहते हैं संस्कृत में.. जानिए

Mother’s Day 2020 : हिंदू धर्म में माँ शब्द की कई व्याख्याएँ हैं। लेकिन अधिकांश ज्ञान हमें अपने शास्त्रों से मिलता है। इसलिए अगर हम शास्त्रों के बारे में बात करते हैं, तो वाल्मीकि रामायण में, भगवान राम ने कहा है कि “जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गादपि गरियसि”, इसका मतलब है कि ” माँ और मातृभूमि स्वर्ग से बेहतर हैं “।

माँ शब्द की उत्पत्ति और अर्थ के बारे में कई मत हैं। विभिन्न शैलियों ने माँ शब्द की व्याख्या की है।ये एक अक्षर वाला संबोधन पूरे ब्रह्मांड में सबसे ताकतवर शब्द माना जाता है।

Mother’s Day 2020: माँ की ममता समुद्र से भी गहरी

माँ सिर्फ शब्द नहीं बल्कि एक भावना है। इसका वर्णन शब्दों मे करना नामुमकिन है। माँ वो है जो न सिर्फ हमे जन्म देती है बल्कि हमे जीना भी सिखाती है। माँ शब्द का अर्थ ( Meaning of ‘Maa’ word) है निस्वार्थ प्यार और बलिदान। माँ भगवान् का जीता जागता स्वरूप है। माँ खुले दिल से अपने बच्चो का भरपूर ख्याल रखती है। माँ वो होती है जो खुद भूखी सो जाए पर अपने बच्चो को भूखा रहने नहीं देती। उसे खुद कितनी भी तकलीफ हो वो जताती नहीं और ऐसे मे भी सिर्फ अपने बच्चो की ही सलामती की दुआ करती है। माँ की ममता समुद्र से भी गहरी है।

Mother’s Day 2020: माँ शब्द का अर्थ समझाना इसलिए नामुमकिन

दुनिया में हर शब्द का अर्थ समझा और समझाया जा सकता है, लेकिन मां शब्द का अर्थ (Meaning of ‘Maa’ word) समझना और समझाना दोनों ही लगभग नामुमकिन है।मां शब्द का अर्थ समझाना इसलिए नामुमकिन है क्योंकि मां के प्यार को, मां के बलिदान को शब्दों में नहीं समझाया जा सकता इसे सिर्फ अनुभव किया जा सकता है। मां के दिल में जितना प्यार अपने सभी बच्चों के लिए होता है, अगर मां के सभी बच्चे कोशिश भी करें तो उसका कुछ अंश भी अदा नहीं कर सकते।

Meaning of ‘Maa’ word in sanskrit : Mother’s Day 2020

माँ (Maa) को संस्कृत में ” मातरः” कहते है। संस्कृत (Sanskrit) विश्व की सबसे प्राचीन भाषा है। इसी से आधुनिक भारतीय भाषाएँ हिंदी, मराठी, सिन्धी, पंजाबी, नेपाली आदि उत्पन्न हुई हैं। भारत के संविधान की आठवीं अनुसूची में संस्कृत को भी सम्मिलित किया गया है। यह उत्तराखंड की द्वितीय राजभाषा है।

कुछ विद्वानों का मानना है कि माँ का मतलब मै + आ अर्थात मैं मतलब परमशक्ति और आ का मतलब आत्मा अर्थात माँ , इस तरह माँ ईश्वर की सर्वश्रेष्ठ कृति है जिसके माध्यम से परमेश्वर अपने अंश द्वारा अपनी शक्ति का संचार और विस्तार करता है।


WeUttarakhand की न्यूज़ पाएं अब Telegram पर - यहां CLICK कर Subscribe करें (आप हमारे साथ फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर जुड़ सकते हैं)

Latest Updates

वर्ल्ड कप की मेजबानी करने वाला स्टेडियम, खेत की तरह दिख रहा है, 2 फीट लंबी घास से भरा मैदान

खेत जैसा नजर आता है वो मैदान जिस पर कभी वर्ल्ड कप का मैच हुआ था। पटना के मोइनुल हक स्टेडियम(Moin-ul-Haq Stadium),...

Mirzapur Season 2: जानिए आखिर ट्विटर पर क्यों ट्रेंड हो रहा है बॉयकॉट मिर्ज़ापुर 2, गुड्डू भैया से जुड़ा है मामला.. पढ़ें

लंबे इंतजार के बाद अमेज़न प्राइम वीडियो ने सोमवार को मिर्जापुर के दूसरे सीज़न की रिलीज़ डेट की घोषणा की। लेकिन मंगलवार...

भूमि पूजन: अयोध्या को सील करने की तैयारी, 4 अगस्त को नहीं मिलेगा किसी को भी प्रवेश

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 5 अगस्त को अयोध्या में श्री राम मंदिर की भूमि पूजन के लिए पहुंचेंगे इस को ध्यान में रखते...

1983 वर्ल्ड कप चैंपियन भारतीय क्रिकेट टीम को कितने पैसे मिलते थे जानिए

दिग्गज पाकिस्तानी क्रिकेटर रमीज राजा ने 1983 वर्ल्ड कप जीतने वाली भारतीय टीम की पे-स्लिप शेयर की है। कपिल देव की कप्तानी...

हाईस्कूल में फेल हुई छात्रा ने पिया जहर, वहीं पिथौरागढ़ में छात्रा ने की फांसी लगाकर आत्महत्या

उत्तराखंड के नैनीताल में हाईस्कूल में फेल होने के बाद गवर्नमेंट इंटर कॉलेज बाजुनियाहल्लु की एक छात्रा ने आत्मघाती कदम उठाया। दरअसल,...