हिमाचल में स्वास्थ्य विभाग का घूस मामला, जांच में सहयोग ना करने पर एजेंट भी हुआ गिरफ्तार..

Himachal PPE scam : Agent also arrested for not cooperating in investigation

Himachal PPE Scam : विजिलेंस ने रिकार्डिंग करने वाले एजेंट पृथ्वी सिंह को पांच लाख के लेनदेन में कथित भ्रष्टाचार के एक वायरल ऑडियो मामले में गिरफ्तार किया है। जांच अधिकारियों ने उन्हें गिरफ्तार किया और पूछताछ के दौरान सहयोग नहीं करने और सवालों के सही जवाब नहीं देने के कारण रविवार को शिमला की एक स्थानीय अदालत में पेश किया, जहां अदालत ने उसे पांच दिन के पुलिस रिमांड पर भेज दिया।

आरोपी ने अदालत में जमानत याचिका भी दायर की, जिस पर 9 जून को सुनवाई होगी। तत्कालीन स्वास्थ्य निदेशक को रिश्वत के लेन-देन के आरोप में पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है, जो अब जमानत पर बाहर है।

बता दें कि विजिलेंस को अब तक की जांच में जो जानकारी मिली है, उससे साफ है कि अप्रैल के तीसरे हफ्ते में दोनों के बीच हुई बातचीत के दौरान रिकॉर्डिंग की गई थी। यह ऑडियो मई में वायरल हुआ और सरकार के निर्देश मिलने के बाद विजिलेंस ने मई के तीसरे हफ्ते में मामला दर्ज कर जांच शुरू की।

सूत्रों का कहना है कि पृथ्वी सिंह, जिन्होंने खुद को विह्सिल ब्लोवर होने का दावा करके भ्रष्टाचार का खुलासा किया था, के पास इस बात का जवाब नहीं था कि उन्होंने अप्रैल से लेकर मई तक किसी भी सरकारी एजेंसी में रिकॉर्डिंग को आगे क्यों नहीं बढ़ाया। इसका जवाब देने के बजाय वह खुद को जबरन फंसाये जाने की बात कर रहा था। अमर उजाला की रिपोर्ट के अनुसार, पृथ्वी के भाजपा के एक कद्दावर नेता से संबंध बताए जा रहे थे। जिसकी वजह से ही जब मामले में पूर्व स्वास्थ्य निदेशक व पांच लाख मांगने के आरोपी डॉ। एके गुप्ता को गिरफ्तार किया तो आम लोगों से लेकर विपक्ष तक ने पृथ्वी की गिरफ्तारी न होने पर सवाल उठाए थे।


WeUttarakhand की न्यूज़ पाएं अब Telegram पर - यहां CLICK कर Subscribe करें (आप हमारे साथ फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर जुड़ सकते हैं)